20+ Rahat Indori Shayari Collection | अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है

Share

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है,
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है,
लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में,
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है,

Here we are going to show you some Rahat Indori Shayari latest awesome Hindi shayari for whatsapp and facebook and your status which you will love very much.

Most of the girls and boys like to use Rahat indori Shayari in hindi shayari,Rahat Indori sher,rahat indori poetry,shayari rahat indori, love shayari, rahat indori romantic shayari in hindi,rahat indori gazal,sad shayari in whatsapp Dp profile picture and whatsapp status or many social media accounts. Nowadays Rahat Indori shayari, Hindi Shayari is trending among all.
Now we are providing Best collection of rahat indori  best hindi shayari, rahat indori whatsapp status, sad shayari, sad shayari image, love shayari, Love shayari image with best hindi shayari 2020 so you will share with your friends and feel happy. Below we have shared some hindi shayari with image.
We are providing all new shayri and whatsapp status, hindi shayari, love shayari, sad shayari, goodmorning  shayari, attitude shayari, funny shayari, urdu shayari, dosti shayari and more….

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है,
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है,
लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में,
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है,
मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन,
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है,
हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है,
हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है,
जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे,
किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है,
सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में,
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है.
-राहत इन्दौरी

Rahat Indori Best Shayari Collection
Rahat Indori Shayari
Agar khilaaf hain hone do jaan thodee hai, ye sab dhuaan hai koee aasamaan thodee hai, lagegee aag to aaenge ghar kaee zad mein, yahaan pe sirf hamaara makaan thodee hai, main jaanata hoon ke dushman bhee kam nahin lekin, hamaaree taraha hathelee pe jaan thodee hai, hamaare munh se jo nikale vahee sadaaqat hai, hamaare munh mein tumhaaree zubaan thodee hai, jo aaj saahibe masanad hain kal nahin honge, kiraedaar hain zaatee makaan thodee hai, sabhee ka khoon hai shaamil yahaan kee mittee mein, kisee ke baap ka hindostaan thodee hai. -raahat indauree
 
 
 

बीमार को मर्ज़ की दवा देनी चाहिए
वो पीना चाहता है पिला देनी चाहिए

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए

ये दिल किसी फ़कीर के हुज़रे से कम नहीं
ये दुनिया यही पे लाके छुपा देनी चाहिए

मैं फूल हूँ तो फूल को गुलदान हो नसीब
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाईये मुझे
मैं नीद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पे सजायें लोग
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए

सच बात कौन है जो सरे-आम कह सके
मैं कह रहा हूँ मुझको सजा देनी चाहिए

सौदा यही पे होता है हिन्दोस्तान का
संसद भवन में आग लगा देनी चाहिए

-राहत इन्दौरी

Rahat Indori Best Shayari Collection
Rahat Indori sher
Beemaar ko marz kee dava denee chaahie vo peena chaahata hai pila denee chaahie allaah barakaton se navaazega ishq mein hai jitanee poonjee paas laga denee chaahie ye dil kisee fakeer ke huzare se kam nahin ye duniya yahee pe laake chhupa denee chaahie main phool hoon to phool ko guladaan ho naseeb main aag hoon to aag bujha denee chaahie main khvaab hoon to khvaab se chaunkaeeye mujhe main need hoon to neend uda denee chaahie main jabr hoon to jabr kee taeed band ho main sabr hoon to mujh ko dua denee chaahie main taaj hoon to taaj ko sar pe sajaayen log main khaak hoon to khaak uda denee chaahie sach baat kaun hai jo sare-aam kah sake main kah raha hoon mujhako saja denee chaahie sauda yahee pe hota hai hindostaan ka sansad bhavan mein aag laga denee chaahie -Raahat indauree
 
 

 

सारी बस्ती क़दमों में है, ये भी इक फ़नकारी है
वरना बदन को छोड़ के अपना जो कुछ है सरकारी है

कालेज के सब लड़के चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिये
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

फूलों की ख़ुश्बू लूटी है, तितली के पर नोचे हैं
ये रहजन का काम नहीं है, रहबर की मक़्क़ारी है

हमने दो सौ साल से घर में तोते पाल के रखे हैं
मीर तक़ी के शेर सुनाना कौन बड़ी फ़नकारी है

अब फिरते हैं हम रिश्तों के रंग-बिरंगे ज़ख्म लिये
सबसे हँस कर मिलना-जुलना बहुत बड़ी बीमारी है

दौलत बाज़ू हिकमत गेसू शोहरत माथा गीबत होंठ
इस औरत से बच कर रहना, ये औरत बाज़ारी है

कश्ती पर आँच आ जाये तो हाथ कलम करवा देना
लाओ मुझे पतवारें दे दो, मेरी ज़िम्मेदारी है

-राहत इंदौरी

Saaree bastee qadamon mein hai, ye bhee ik fanakaaree hai varana badan ko chhod ke apana jo kuchh hai sarakaaree hai kaalej ke sab ladake chup hain kaagaz kee ik naav liye chaaron taraf dariya kee soorat phailee huee bekaaree hai phoolon kee khushboo lootee hai, titalee ke par noche hain ye rahajan ka kaam nahin hai, rahabar kee maqqaaree hai hamane do sau saal se ghar mein tote paal ke rakhe hain meer taqee ke sher sunaana kaun badee fanakaaree hai ab phirate hain ham rishton ke rang-birange zakhm liye sabase hans kar milana-julana bahut badee beemaaree hai daulat baazoo hikamat gesoo shoharat maatha geebat honth is aurat se bach kar rahana, ye aurat baazaaree hai kashtee par aanch aa jaaye to haath kalam karava dena lao mujhe patavaaren de do, meree zimmedaaree hai -Raahat indauree
 
 
 

जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है
वो शख्स, सिर्फ भला ही नहीं, बुरा भी है

मैं पूजता हूँ जिसे, उससे बेनियाज़ भी हूँ
मेरी नज़र में वो पत्थर भी है खुदा भी है

सवाल नींद का होता तो कोई बात ना थी
हमारे सामने ख्वाबों का मसअला भी है

जवाब दे ना सका, और बन गया दुश्मन
सवाल था, के तेरे घर में आईना भी है

ज़रूर वो मेरे बारे में राय दे लेकिन
ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है

-राहत इन्दौरी

Jo mera dost bhee hai, mera hamanava bhee hai vo shakhs, sirph bhala hee nahin, bura bhee hai main poojata hoon jise, usase beniyaaz bhee hoon meree nazar mein vo patthar bhee hai khuda bhee hai savaal neend ka hota to koee baat na thee hamaare saamane khvaabon ka masala bhee hai javaab de na saka, aur ban gaya dushman savaal tha, ke tere ghar mein aaeena bhee hai zaroor vo mere baare mein raay de lekin ye poochh lena kabhee mujhase vo mila bhee hai -Raahat indauree
 
 
 
Rahat Indori Best Shayari Collection
rahat indori poetry
 
 
 

सुला चुकी थी ये दुनिया थपक थपक के मुझे
जगा दिया तेरी पाज़ेब ने खनक के मुझे

कोई बताये के मैं इसका क्या इलाज करूँ
परेशां करता है ये दिल धड़क धड़क के मुझे

ताल्लुकात में कैसे दरार पड़ती है
दिखा दिया किसी कमज़र्फ ने छलक के मुझे

हमें खुद अपने सितारे तलाशने होंगे
ये एक जुगनू ने समझा दिया चमक के मुझे

बहुत सी नज़रें हमारी तरफ हैं महफ़िल में
इशारा कर दिया उसने ज़रा सरक के मुझे

मैं देर रात गए जब भी घर पहुँचता हूँ
वो देखती है बहुत छान के फटक के मुझे

-राहत इन्दौरी

Rahat Indori Best Shayari Collection
rahat indori poetry
Sula chukee thee ye duniya thapak thapak ke mujhe jaga diya teree paazeb ne khanak ke mujhe koee bataaye ke main isaka kya ilaaj karoon pareshaan karata hai ye dil dhadak dhadak ke mujhe taallukaat mein kaise daraar padatee hai dikha diya kisee kamazarph ne chhalak ke mujhe hamen khud apane sitaare talaashane honge ye ek juganoo ne samajha diya chamak ke mujhe bahut see nazaren hamaaree taraph hain mahafil mein ishaara kar diya usane zara sarak ke mujhe main der raat gae jab bhee ghar pahunchata hoon vo dekhatee hai bahut chhaan ke phatak ke mujhe -Raahat indauree
 
 
 
 

जो मंसबो के पुजारी पहन के आते हैं
कुलाह तौक से भारी पहन के आते है

अमीर शहर तेरे जैसी क़ीमती पोशाक
मेरी गली में भिखारी पहन के आते हैं

यही अकीक़ थे शाहों के ताज की जीनत
जो उँगलियों में मदारी पहन के आते हैं

इबादतों की हिफाज़त भी उनके जिम्मे हैं
जो मस्जिदों में सफारी पहन के आते हैं

-राहत इन्दौरी

Rahat Indori Best Shayari Collection
Rahat Indori Shayari Collection
Jo mansabo ke pujaaree pahan ke aate hain kulaah tauk se bhaaree pahan ke aate hai ameer shahar tere jaisee qeematee poshaak meree galee mein bhikhaaree pahan ke aate hain yahee akeeq the shaahon ke taaj kee jeenat jo ungaliyon mein madaaree pahan ke aate hain ibaadaton kee hiphaazat bhee unake jimme hain jo masjidon mein saphaaree pahan ke aate hain -Raahat indauree

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *